SSC-CHSL

राजस्थान लोक सेवा आयोग के एग्जाम को 6 महीने में सफल करने की रणनीति, सुझाव और तरकीब

टिप्स एडं ट्रिक्स

राजस्थान मे प्री परीक्षा को पास करने के लिये प्री के पाठयक्रम को बडी ही बारीकी से समझे और प्री के पुराने प्रश्नपत्रों का अध्ययन करे, प्रश्नो की प्रकृति को समझे की कैसे प्रश्न आते है यहां पर एक बात विशेष है कि आर.पी.एस.सी में राजस्थानी प्रश्नों पर बहुत जोर दिया जाता है इसलिये राजस्थान के विषयो पर खासतौर से तैयारी करे। राजस्थान मे सामान्य ज्ञान और सामान्य विज्ञान के प्रश्न भी काफी आते है इसलिये प्री के प्रश्नपत्र मे वह सभी प्रश्न जो बार-बार आये है उनको अलग लिख ले ताकि ऐसे प्रश्नो को दोहराने में समय नही लगे।

मुख्य परीक्षा की तैयीरी मे समस्त पुराने प्रश्नपत्रो को सबसे पहले बारीकी से देखे और समझे, फिर एक-एक प्रश्नपत्र की अलग-अलग तैयारी करे। राजस्थान की मुख्य परीक्षा मे किसी भी प्रश्नपत्र को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है आर.पी.एस.सी के चौथे प्रश्नपत्र मे प्रतियोगिकों को अंक्सर कम अंक प्राप्त है इस प्रश्नपत्र को पाठयक्रम के अनुसार पूर्ण रुप से तैयार करे। अगर ‌किसी प्रश्नपत्र में आपकी पकड़ कमजोर है तो किसी कोंचिग या इस परीक्षा का ज्ञान रखने वाले किसी व्यक्ति का भी सहारा ले सकते है।

प्री. और मेन्स में एन.सी.ई.आर.टी की कक्षा 6-12 तक की सभी पुस्तकें जो आपके विषयों से संबन्धित है उनका जरुर अध्ययन करे। संविधान के लिये बेयर एक्ट की किताब का अध्ययन करे और करेन्ट अफेयर्स के लिये दैनिक न्यूज के एवं प्रत्येक महीने की एक या दो मैगजीन को पढ़े और नोट्स बनाया करे। आधुनिक भारत के लिये बिपिन चंद्र की किताब एवं राजस्थान के इतिहास, संस्कृति, भाषा,बोलियां, परम्पराओं की जानकारी के लिये राजस्थानी शिक्षा बोर्ड की राजस्थान अध्ययन कि कक्षा 9-12 तक की सभी किताबें उपयोगी है तथा राजस्थान के इतिहास और संस्कृति के लिये निम्न पुस्तकों का सहारा लिया जा सकता है-

.सांस्कृतिक राजस्थान पद्मश्री रानी लक्ष्मीकुमारी चूंडावत
.राजस्थान की सांस्कृतिक परंपराएं डॉ महेन्द्र सिहं
.राजस्थान लोक संस्कृति और साहित्य‍ डी.आर.आहूजा

October 12, 2016

Copyright 2017 © AMARUJALA.COM. All rights reserved.