SSC-CHSL

IBPS PO Syllabus


IBPS PO exam is directed by the Institute for Banking Personnel Selection (IBPS) to choose qualified contender for the post of Probationary Officers (PO) in different open part banks. The quantity of open area banks where fruitful hopefuls may get distributed sums to around 20. Set up by the saving money industry, IBPS was propelled in 1975 and turned into a free substance in 1984.ibps po syllabus 2017,ibps po syllabus, ibps po 2017. Today, IBPS is a prestigious foundation that has finish control over the enrollment, position and advancement of hopefuls at open area banks. It is compulsory for possibility to take the examinations led by IBPS to secure an incredible future out in the open division banks.

बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान (IBPS)

  • बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान (Institute of Banking Personnel Selection) भारत की एक स्वतन्त्र संस्था है जो अन्य संस्थाओं के कर्मचारियों के चयन, भर्ती एवं मूल्यांकन में सहयोग प्रदान करती है।
  • यह 1975 में आरम्भ हुई थी। 1984 में यह स्वतन्त्र संस्था बनी। सन 2011 से इस संस्थान ने भारतीय बैंकों के लिये अधिकारी तथा क्लर्कों की नियुक्ति हेतु समान लिखित परीक्षा (कॉमन रिटेन एक्जामिनेशन / CWE) आरम्भ किया।
  • आधिकारिक सूचना के अनुसार, IBPS पीओ प्रतिभागी परीक्षा को बैंकों/वित्तीय संस्थानों में लिपिकीय संवर्ग पदों के लिए उम्मीदवारों की भर्ती के लिए आयोजित किया जाता है। 
  • जो भी उम्मीदवार सार्वजनिक क्षेत्र के 20 बैंकों तथा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में भर्ती होना चाहता है उसे सीडब्ल्यूई की परीक्षा देनी होगी।
  • आईबीपीएस पीओ परीक्षाओं को एक वर्ष में दो बार आयोजित किया जाता है।

 

 

  • इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank),
  • इंडियन बैंक (Indian Bank),
  • आंध्रा बैंक (Andhra Bank),
  • इंडियन ओवरसीज बैंक (Indian Overseas Bank),
  • बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda),
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स (Oriental Bank of Commerce),
  • बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India),
  • पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank),
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra),
  • पंजाब एंड सिंड बैंक (Punjab & Sind Bank),
  • केनरा बैंक (Canara Bank),
  • सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank),
  • सेंटरल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank of India),
  • यूको बैंक (UCO Bank),
  • कॉर्पोरेशन बैंक (Corporation Bank),
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank of India),
  • देना बैंक (Dena Bank),
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (United Bank of India),
  • आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank),
  • विजया बैंक (Vijaya Bank)

407917-385756-ibps-logo-square-1-edited

  • Candidate must be of min. 21 years and max. 30 years.
  • For SC / ST Candidates 5 years and for OBC 3 years relaxation is given in the age limit.
  • In the first step, you have to deal with customers.
  • The main work of PO is to check the cash and check other data collection in the computer after the work of office, besides other transaction, collection, book maintenance.
  • Apart from this, there are responsibilities related to cash receipt, sectional withdrawal, checking checks, giving DD and other banking related.

  • ‘पीओ’ पद के लिए कम से कम 21 वर्ष और अधिक से अधिक 30 वर्ष की आयु-सीमा तय की गई है।
  • इस पद के लिए भी एससी/एसटी के लिए 5 वर्ष की और ओबीसी के लिए कम से कम 3 वर्ष की आयु सीमा में छूट दी जाती है।
  • इसके पहले स्टेप में आपको उपभोक्ताओं के साथ व्यवहार और पूछताछ में साथ देना होता है।
  • पीओ पद में मुख्य काम नकद को जांचना और अन्य ट्रांजेक्शन, कलेक्शन, बही खाता रखरखाव इसके अलावा ऑ‌फिस के काम के बाद कंप्यूटर में डाटा को चेक करना है।
  • इसके अलावा नकद प्राप्त करना, सेंक्शनल विदड्रॉल, चेक्स को जांचना, डीडी देना और अन्य बैंकिंग से संबंधित जिम्मेदारियां होती है।

According to the rules of the bank 

बैंक के नियमों के अनुसार

Bachelor degree in any subject from any recognised university with a degree or diploma in computers।

शैक्षणिक योग्यता में किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्था से किसी भी विषय में स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण होने के साथ कम्प्यूटर में डिग्री या डिप्लोमा परीक्षा उत्तीर्ण निर्धारित किया गया है।

 

 

एग्जाम पैटर्न


आईबीपीएस-पीओ की परीक्षा के तीन चरण है-

  • प्रारम्भिक परीक्षा( वस्तुनिष्ठ और बहुविकल्पी)
  • मुख्य परीक्षा (वस्तुनिष्ठ)
  • साक्षात्कार

प्रारंभिक परीक्षा: – प्रारंभिक परीक्षा प्रतियोगिता में से गैर गंभीर उम्मीदवारों को दूर करने के लिए आयोजित किया जाएगा। सवालों का स्तर इस चरण में इतना कठिन नहीं होगा। नीचे तालिका में उल्लेख कर रहे हैं, जो 3 वर्गों के होते हैं –

क्र.सं.विषयप्रश्नों की संख्याअंकसमयावधि
1.अंग्रेजी भाषा3030 
2.मात्रात्मक योग्यता3535 
3. तार्किक  क्षमता3535 
 कुल100100 1 घंटा

नेगेटिव मार्किंग: प्रत्येक उम्मीदवार की वस्तुनिष्ठ परीक्षा होगी, इसमें गलत जवाब पर 0.25 अंक नेगेटिव मार्किंग की जाएगी। जो उम्मीदवार इस चरण में सफल होगा वही उम्मीदवार अगले चरण में जाएगें।  

चरण 2 में वस्तुनिष्ठ और वर्णनात्मक प्रकार के प्रश्न पत्र शामिल होंगे। वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पत्र में 200 प्रश्न 5 वर्गों से मिलकर बनेगे। जिनका विवरण नीचे तालिका में दिया जा रहा है –

क्र. सं.विषय प्रश्नों की संख्याअंकसमयावधि
1.रीजनिंग505040 
2. अंग्रेजी भाषा4040 30 
3.मात्रात्मक योग्यता  5050 40 
4.

सामान्य जागरुकता(मुख्य रुप से बैंकिंग पर आधारित)

4040 20 
 5.कम्प्यूटर2020 10
 कुल200200 140मिनट

 

  • प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.25 अंक की कटौती की  जाएगी।
  • सभी परीक्षाएं (अंग्रेजी भाषा के छोड़कर) द्विभाषी होंगी।
  • प्रत्येक अभ्यर्थी को सभी परीक्षाओं में उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • उम्मीदवारों को चरण- III साक्षात्कार में जाने के लिए प्रत्येक और हर वर्ग पास करना होगा।
  • वस्तुनिष्ठ परीक्षा के बाद एक वर्णनात्मक प्रकार का प्रश्न पत्र स्क्रीन पर दिखाई देगा।
  • वर्णनात्मक प्रकार के प्रश्न पत्र में अंग्रेजी भाषा से संबंधित सवाल शामिल होंगे।
  • उम्मीदवारों को वर्णनात्मक परीक्षा में निबंध लिखना होगा।

 

व्यक्तिगत साक्षात्कार: – जो उम्मीदवार दूसरे चरण में सफल होंगे वही व्यक्तिगत साक्षात्कार में शामिल हो सकेंगे । इस चरण में उम्मीदवारों के कौशल की जाँच की जाएगी। इस चरण में जो उम्मीदवार योग्य पाये जाते हैं, उन्हे नौकरी मिल जाएगी।

जॉब अलर्ट और समाचार

+

एग्जाम में सफल होने के लिए रणनीति, सुझाव और तरकीब

{"first_class":"1","title":"\u090f\u0917\u094d\u091c\u093e\u092e \u092e\u0947\u0902 \u0938\u092b\u0932 \u0939\u094b\u0928\u0947 \u0915\u0947 \u0932\u093f\u090f \u0930\u0923\u0928\u0940\u0924\u093f, \u0938\u0941\u091d\u093e\u0935 \u0914\u0930 \u0924\u0930\u0915\u0940\u092c","show_title":"1","post_type":"post","taxonomy":"","term":"","post_ids":"17899,22547","course_style":"recent","featured_style":"side","masonry":"0","grid_columns":"clear1 col-md-12","column_width":"200","gutter":"30","grid_number":"1","infinite":"0","pagination":"1","grid_excerpt_length":"100","grid_link":"1","css_class":"","container_css":"","custom_css":""}

पाठ्यक्रम


इस विषय से संबंधित पेपर में Spotting Common Errors, synonyms & antonyms, Improvement of sentences, passage comprehension, spelling correction related Questions, Fill in the blanks, Close Test (passage completion), Rearrangements of sentences in a paragraph, Transformation, Rearrangements of word substitution, sentence completion आदि घटकों का समावेश रहता है जबकि प्रोबेशनरी ऑफिसर पद के लिए वर्णात्मक पेपर में Latter writing, prices writing जैसे घटकों का समावेश है।

 

अंग्रेजी खंड – कुल प्रश्नों की संख्या – 40

विषयप्रश्नों की संख्या
रीडिंग काम्प्रिहेन्शन (Reading Comprehension 10
क्लोज़ टेस्ट10
पुनर्व्यवस्थापन (Rearrangement) 5
एरर स्पाटिंग ( Error Spotting) 5
फ्रेज़ ( Phrases) 5
रिक्त स्थान पूर्ति( fill in the blanks) 5

 

 

  • गणित एक ऐसा विषय है जिसमें जितना अधिक अभ्यास किया जाए, उसमें उतना ही अधिक प्रवीणता पाई जा सकती है।
  • ट्रिकी सूत्रों के ज‌रिये इसे कम से कम समय में हल करने का कौशल विकसित किया जा सकता है।
  • गणित के निम्न टॉपिकों पर उसके सूत्रों (Formulae) और हल करने की विधि को जानकर सफलता सुनिश्चित की जा सकती है।
  • संख्यात्मक योग्यता के प्रश्न हल करने के लिए अभ्यर्थियों को आधारभूत गणनाओं और सन्निकटीकरण (एप्रोक्सिमेशन) की संकल्पनाओं का ज्ञान होना चाहिए।
  • इसके अतिरिक्त, संख्यात्मक योग्यता वाले खंड के लिए गति मुख्य भूमिका निभाती हैं।
  • डाटा इंटरप्रिटेशन, श्रृंखला, प्रतिशत औसत ,साधारण ब्याज / चक्रवृद्धि ब्याज,लाभ और हानि,अनुपात और अनुपात,समय और काम,समय की गति और दूरी और डेटा विश्लेषण और व्याख्या – लाइन रेखांकन, बार चार्ट, पाई चार्ट, टेबल्स, प्रायिकता आदि विषय इस भाग में आते है

 

संख्यात्मक अभिक्षमता खंड -कुल प्रश्न – 40

विषयप्रश्नों की संख्या
अंकगणित (लाभ हानि, समय और कार्य, आदि प्रतिशत, आयु )20
श्रृंखला 5
डेटा व्याख्या 5
सरलीकरण 10

 

  • प्रतियोगी परीक्षाओं में तर्क ज्ञान से जुड़े प्रश्न तर्कशक्ति या तार्किक क्षमता खंड के तहत पूछे जाते हैं।
  • प्रश्नों की मौलिक प्रकृ‌ति को समझकर और टॉपिक के मुताबिक अभ्यास कर इसे समझना आसान हो जाता है।
  • तर्क-क्षमता वाले खंड की तैयारी के लिए मानसिक सजगता और तार्किक कौशल होना ज़रूरी है।
  • इस खंड में सफलता हासिल करने के लिए अभ्यर्थी को मोक टेस्ट और पिछले वर्षों के परीक्षा-प्रश्नपत्रों से अभ्यास करना चाहिए।
  • इस खंड में शाब्दिक और गैर-शाब्दिक रीजनिंग के टॉपिक्स से प्रश्न आते हैं, जिनमें एनालॉजी, इनपुट-आउटपुट, वर्गीकरण, निगमन (सिलोजिज्म), अनुमान (इन्फेरेंसेस) बैठने की व्यवस्था ,रक्तसंबंध,कोडिंग डिकोडिंग ,विवरण तथा धारणा ,डेटा पर्याप्तता ,असमानता, इनपुट आउटपुट ,विषम शब्द ज्ञात करना आदि विषय आते हैं।

  • सामान्य ज्ञान अभिक्षमता खंड – परीक्षा प्रश्नपत्र का यह एक अंक दायी (स्कोरिंग) खंड है।
  • इस खंड की तैयारी के लिए अभ्यर्थियों को बैंकिंग उद्योग और अर्थव्यवस्था पर नजर रखनी चाहिए।
  • इसके लिए बैंकिंग-जागरूकता के साथ सामान्य जागरूकता अपेक्षित है।
  • सामान्य ज्ञान के खंड में भारत की बैंकिंग-प्रणाली, मुद्रा, बजट-निर्माण, वित्तीय आयोजना, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संगठन आदि विषय आते हैं।

 

सामान्य ज्ञान अभिक्षमता खंड – कुल प्रश्न – 40

विषयप्रश्नों की संख्या
सामान्य ज्ञान 5-10
बैंकिंग ज्ञान10-15
करंट अफेयर्स 15

 

  • कंप्यूटर ज्ञान अभिक्षमता खंड – कुल प्रश्न – 40
  • इस भाग में विंडोज,माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस ( वर्ड, एक्सेल) ,नेटवर्किंग,बेसिक हार्डवेयर,सॉफ्टवेर,डीबीएमएस
  • आदि विषय से सवाल पूछे जाते है।

 

सवाल और जवाब


Viewing 5 topics - 1 through 2 (of 72 total)
Viewing 5 topics - 1 through 2 (of 72 total)
Create New Topic in “Banking”
Your information:





आगामी परीक्षा के लिए खुद को परखें 

हल पेपर ( Previous years solved papers )

ई बुक्स

स्टडी किट

Copyright 2017 © AMARUJALA.COM. All rights reserved.