वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण और कोरिया के व्यापार, उद्योग और ऊर्जा मंत्री जू ह्यूंगवान ने भारत में कोरियाई निवेश को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 'कोरिया प्लस' नामक एक विशेष पहल की शुरुआत की।

  • 'कोरिया प्लस' की स्थापना के समझौता ज्ञापन पर पहले ही कोरिया के व्यापार, उद्योग और ऊर्जा मंत्रालय तथा भारत के राष्ट्रीय निवेश संवर्धन एवं सरलीकरण संस्था के उपक्रम 'इनवेस्ट इंडिया' के बीच जनवरी 2016 में हस्ताक्षर किए गए थे। यह समझौता ज्ञापन मई 2015 में भारतीय प्रधानमंत्री की दक्षिण कोरिया दौरे का परिणाम है।
  • इस अवसर पर भारत में कोरिया के राजदूत चो ह्यून, औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग, कोरिया व्यापार निवेश संवर्धन संस्था (केओटीआरए), इनवेस्ट इंडिया टीम और कई कोरियाई व्यापार प्रतिनिधियों के अधिकारीगण उपस्थित थे।
  • 'कोरिया प्लस', जो 18 जून, 2016 से लागू हो गया, इसमें कोरियाई सरकार के व्यापार, उद्योग और ऊर्जा मंत्रालय के प्रतिनिधि, कोरिया व्यापार निवेश संवर्धन संस्था (केओटीआरए) के प्रतिनिधि और साथ ही इनवेस्ट इंडिया के भी तीन प्रतिनिधियों को रखा गया है।
  • 'कोरिया प्लस' का उद्देश्य पहली बार भारतीय बाजार में प्रवेश करने वाले कोरियाई उद्यमों का समर्थन, भारत में व्यापार करने के लिए कोरियाई कंपनियों द्वारा कठिनाईयों से सामना और उनकी ओर से भारत सरकार की नीतियों की वकालत आदि को इसके अंतर्गत लाया गया है। 'कोरिया प्लस' बैठकों की व्यवस्था करने, जनसंपर्क और अनुसंधान / मूल्यांकन में सहायता और भारत में निवेश को इच्छुक कोरियाई कंपनियों को सूचना और परामर्श प्रदान के लिए एक मध्यस्थ के रूप में कार्य करेगा।
  • हाल के वर्षों में भारत और कोरिया गणराज्य के संबंधों में काफी प्रगति हुई है। 'कोरिया प्लस' इन संबंधों को और भी अधिक मजबूत बनाने में एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगा।
capsul samaiki logo
 करेंट अफेयर्स पर आधारित डेली कैप्सूल पर जाने के लिए क्लिक करें   करेंट अफेयर्स पर आधारित मासिक पत्रिकाओं पर जाने के लिए क्लिक करें
 

Other details:

Related Articles:

  • Share: