वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 01 फरवरी, 2018 को लोकसभा में बजट 2018-19 पेश किया। वित्त मंत्री अरुण जेटली लोकसभा में मोदी सरकार का लगातार पांचवां बजट पेश कर रहे हैं। पहले रेल बजट और आम बजट अलग - अलग पेश किया जाता था, परंतु मोदी सरकार ने इस परंपरा को 2017 में खत्म कर दिया। अब आम बजट और रेलवे बजट एक साथ पेश किये जाते हैं। रेल बजट 2018-19 में निम्न घोषणाएं हुई -

रेल बजट की मुख्य बातें निम्न हैं- 

  • रेलवे स्टेशनों पर एस्केलेटर, सीसीटीवी और वाईफाई लगेंगे।
  • मुंबई लोकल का दायरा बढ़ाया जाएगा।
  • मुंबई में 90 किलोमीटर पटरी का विस्तार होगा।
  • 600 रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण पर होगा जोर।
  • 300 किलोमीटर रेल पटरियों का नवीनीकरण होगा।
  • 4267 मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग को बंद किए जाएंगे।
  • माल ढुलाई के लिए 12 वैगन भी बनाए जाएंगे।
  • सुरक्षा वॉर्निंग सिस्टम पर जोर दिया जाएगा।
  • पूरा रेल नेटवर्क ब्रॉड गेज बनाया जाएगा।
  • 3600 नई लाईनें बिछाई जाएंगी।
  • इस साल 700 नए रेल इंजन तैयार किए जाएंगे।
  • 5160 नए कोच तैयार किए जाएंगे। 
  • 40000 करोड़ रुपये एलिवेटेड कॉरिडोर के निर्माण पर खर्च किए जाएंगे।

जेटली ने रेलवे के लिए कुल 1 लाख 48 हजार करोड़ का कुल बजट पास किया। रेल बजट में मुंबई के लिए 90 किलोमीटर पटरी का विस्तार होगा। मुंबई में लोकल रेल का दायरा भी बढ़ाया जाएगा।
 

Other details:

Important links:

Related Articles:

  • Share: