भरोसा बहाली का लक्ष्य

प‌िछले महीने भारत आकर नेपाल के प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के बीच भरोसे की जो नींव रखी थी, नरेंद्र मोदी की यह नेपाल यात्रा उसी भरोसे को मजबूती देने का काम करेगी।

नेपाल के प्रधानमंत्री की भारत यात्रा के करीब एक महीने बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेपाल यात्रा पिछले चार साल में उनकी तीसरी यात्रा तो है ही, अविश्वास और संदेह की परस्पर पृष्ठभू‌‌मि में आपसी भरोसा बढ़ाने वाले इस दौरे का कूटनीतिक महत्व भी स्वाभाविक ही अध‌िक है। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा में पिछले महीने भारत आकर केपी शर्मा ओली ने दोनों देशों के बीच भरोसे की जो नींव रखी थी, नरेंद्र मोदी की यह यात्रा उसी भरोसे को मजबूती देने के उद्देश्य से आयोज‌ित है।

मोदी ने जनकपुर मंद‌िर में पूजा-अर्चना करने के अलावा ओली के साथ संयुक्त रूप से रामायण सर्क‌िट बस मार्ग का शुभारंभ तो किया ही, दोनों देशों के बेहद प्राचीन संपर्क और साझा संस्कृति के बारे में भी बताया। मोदी के इस दौरे में कई महत्वपूर्ण पर‌ियोजनाओं को गत‌ि देने की योजना है, जिनमें बेहद महत्वाकांक्षी अरुण-3 पनबिजली परियोजना की आधारश‌िला रखना और काठमांडु से बिहार के रक्सौल के बीच रेल संपर्क स्थाप‌ित करने पर वार्ता को आगे बढ़ाना मुख्य है।

आगामी पांच साल में पूरी होने वाली 900 मेगावाट की अरुण-3 पनबिजली परियोजना से नेपाल और भारत, दोनों ही लाभान्व‌ित होंगे। इसी तरह चीन द्वारा 2022 तक नेपाल तक रेल नेटवर्क स्थाप‌ित कर लेने की घोषणा के बाद भारत पर काठमांडु-रक्सौल रेल मार्ग विकस‌ित करने का दबाव बढ़ गया है, जिस पर ओली के विगत भारत दौरे के अवसर पर वार्ता हुई थी। इस रेलमार्ग के शुरू होने से दोनों देशों के बीच लोगों का संपर्क बढ़ेगा और नेपाल का भी विकास होगा।

इसके अलावा नौ परिवहन, कृष‌ि विकास, दूसरी कई विकास प‌र‌ियोजनाओं और नेपाल में मौजूद पुरानी भारतीय करेंसी बदलने जैसे कई मुद्दों पर दोतरफा बातचीत की उम्मीद है। भारतीय प्रधानमंत्री ने 'पड़ोस पहले' का जिक्र कर उच‌ित ही अपनी प्रत‌िबद्धता के बारे में बताया, नेपाल के विकास के मामले में इस प्रत‌िबद्धता का जमीन पर उतरना भी जरूरी है। एक तो इसल‌िए कि पर‌ियोजनाओं में विलंब से छवि पर असर पड़ता है, और दूसरा यह कि चीन जिस तेजी से नेपाल में घुसता जा रहा है, उसे देखते हुए भी हमें अत‌िरिक्त रूप से सजग रहने की आवश्यकता है।                 

Other details:

Related Articles:

  • Share: