IAS की परीक्षा जो पूछा जाए उसे ही लिखें, अनावश्यक रूप से कापी को भरने की चेष्टा न करें। क्योंकि ऐसा करने से आपको नबंर नहीं मिलेगे। अभ्यर्थियों की कापी को चेक करने वाले यह देखते है कि क्या आपने वही लिखा है, जिसकी आपसे अपेक्षा की जा रही है। आपने यदि कम शब्दों में पूरी बात कही है तो डरने की बात नहीं है। इसके नबंर आपको मिलेगे। ऐसी ही कुछ बात IAS exam के निबंध में लागू होती है। IAS exam-2018 के निबंध की तैयारी करने वाले अभ्यर्थी या कैंडिडेट इसे निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।   निबंध के उपयुक्त विषय का चुनाव करें (Choose The Appropriate Topic of the essay) निबंध कौन से विषय पर लिखना है इसका निर्णय इस आधार पर ले कि उस विषय की आपको समझ है और आप उस विषय को अच्छी तरह से समझा सकते हैं। साथ ही निबंध के टॉपिक पर 10 मिनट विचार करें। निबंध के उप विषय (Sub Topic of Essay) निबंध में उन सभी बातों का जिक्र किया जाता है, जिसका संबंध उस विषय (Essay Topic) से होता है। जैसे 'क्या आरक्षण खत्म कर देना चाहिए' तो इसके लिए सबसे पहले दिमाग में एक खाका या कल्पना या विषय से संबंधित उप विषय (Sub Topic of Essay) बना लेने चाहिए। इन उपविषयों को क्रम में रखते हुए एक इंट्रोडक्शन तैयार करे। निबंध का इंट्रोडक्शन (The Introduction of Essay) निबंध में लिखे गए इंट्रोडक्शन के द्वारा एग्जामनर आपके पूरे निबंध के आयाम या अभ्यर्थी ने निबंध के विषय से संबंधित किन-किन उप विषयों को छुआ है और इसका सार क्या है आसानी से जान लेता है। आपके द्वारा दिया गया इंट्रो निबंध की पूरी रूप रेखा प्रस्तुत कर देता है और एक अच्छे इंट्रोडक्शन से ही निबंध सही दिशा में चलता है और अच्छे अंक देता है। सिविल सर्विस के अन्य उपयोगी विषय Crack IAS 2018 Exam: विस्तार से जाने सिविल सेवा परीक्षा (CSE) 2018 की समयबद्ध, सही दिशा में और सिस्टमेटिक तैयारी
IAS prelims का एग्जाम पैटर्न IAS main एग्जाम का पैटर्न IAS-2018 की परीक्षा में वैकल्पिक विषय का चुनाव कैसे करें इंटरव्यू टिप्सः सिविल सर्विस एग्जाम-2017
संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) संवैधानिक दर्जा और कार्य 
IPS में चयन और कैडर कैसे मिलता हैः विस्तार से जाने  IAS, IPS आदि सेवाओं का ट्रेनिंग संस्थान LBSNAA: मंसूरी
  • Share: