जीके ओलंपियाड

प्रस्तावना

प्रकाशन की दुनिया में खास पहचान रखने वाले अमर उजाला एजुकेशन ने देश में युवाओं के करियर को ध्यान में रखते हुए एक विशेष पहल की है। GK ओलंपियाड का आयोजन देशभर के स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को ध्यान में रख किया जा रहा है। इसके अंतर्गत भारी संख्या में देश के प्रतिष्ठित सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों के 8वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्र भाग लेंगे।

अमर उजाला एजुकेशन 15 राज्यों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुका है। अमर उजाला एजुकेशन प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को एक कामयाब करियर बनाने में सहायता करता रहा है और अब स्कूली बच्चों के भविष्य को सही दिशा प्रदान करने के लिए अमर उजाला एजुकेशन लाया है जनरल नॉलेज (जीके) ओलंपियाड-2018 अमर उजाला एजुकेशन एक पहल है अमर उजाला पब्लिकेशन की, जो देश के अग्रणी समाचार पत्रों में से एक है। अमर उजाला एजुकेशन प्रतियोगी परीक्षाओं की 600 से ज्यादा पुस्तकें प्रकाशित कर चुका है।

क्या है जीके ओलंपियाड?

आठवीं से बारहवीं कक्षा तक के स्कूली बच्चों के लिए जिला और राज्य स्तर पर कराई जा रही सामान्य ज्ञान क्विज प्रतियोगिता को जीके ओलंपियाड नाम दिया गया है। स्कूली बच्चों को वर्ष में तीन जनरल नॉलेज की पत्रिकाएं (त्रैमासिक) उपलब्ध कराई जाएंगी। इसके साथ ही बच्चों को मिलेगा एक स्पेशल मास्टर कार्ड। इस कार्ड में हर बच्चे की नामांकन संख्या (इनरोलमेंट नंबर) एवं अन्य जानकारियां अंकित होंगी। यह छात्र के अनुक्रमांक यानी रोल नंबर की तरह होगा। इतना ही नहीं जीके ओलंपियाड में टॉप करने वाले छात्रों को खास पुरस्कार दिए जाएंगे और साथ ही उन्हें अमर उजाला अखबार और ऑनलाइन पोर्टल safalta.com में भी जगह मिलेगी।

टॉपर्स की नजर से

एस एस पाठक (UP-PSC)- "समर्पण व परिश्रम का मंच है जीके ओलंपियाड"

राज्य सिविल सेवा में सफलता प्राप्त कर चुके एस. एस. पाठक का मानना है कि शुरुआत छोटी सफलता से की जाए तो बड़ा लक्ष्य हासिल करना मुश्किल नहीं होता है। इसी सोच के साथ उन्होंने साल 2013 में यूपी-पीएससी परीक्षा में सफलता प्राप्त की और अब उ.प्र. के आगरा में असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर नियुक्त हैं। युवाओं को सलाह देते हुए वे कहते हैं कि युवा जीके ओलंपियाड में उपलब्धि हासिल कर अपनी सफलता की बेहतरीन शुरुआत कर सकते हैं।

ज्योतिर्मयी पांडे (UP-PSC)- "सफलता में सहायक है जीके ओलंपियाड"

एक कहावत है-'जहां चाह, वहां राह'। इस कहावत को चरितार्थ किया यूपीपीसीएस परीक्षा के माध्यम से चयनित ज्योतिर्मयी पांडे ने। जब उन्होंने सिविल सेवा में जाने का मन बना लिया, तो कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और आगे बढ़ती चलीं गईं। ज्योतिर्मयी का मानना है कि युवाओं को शुरुआत से ही प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति सजग बनाने के लिए जीके ओलंपियाड जैसे कार्यक्रम सर्वांगीर्ण विकास में खास योगदान करते हैं।

उद्देश्य

हर वह युवा जो सरकारी नौकरी का सपना देखता है, उसे अपनी जनरल नॉलेज यानी जीके मजबूत करने की सलाह दी जाती है। इसकी वजह यह है कि सरकारी नौकरियों के लिए होने वाली तकरीबन सभी परीक्षाओं में जनरल नॉलेज के सवाल जरूर पूछे जाते हैं। इसमें दिक्कत यह आती है कि जनरल नॉलेज की तैयारी रातोंरात नहीं हो सकती।

जनरल नॉलेज की तैयारी के लिए चरणबद्ध ढंग से लगातार मेहनत करनी होती है। इसकी तैयारी का सबसे अच्छा तरीका यह है कि स्कूली स्तर से ही बच्चों को जनरल नॉलेज की तैयारी करानी शुरू कर दी जाए। स्कूली बच्चों के भविष्य से जुड़ी इसी जरूरत को समझते हुए अमर उजाला एजुकेशन लाया है स्कूली बच्चों के लिए एक स्पेशल कॉम्पिटिशन जीके ओलंपियाड-2018 ।

विद्यार्थियों को लाभ

आठवीं से बारहवीं कक्षा तक के स्कूली बच्चों के लिए जिला और राज्य स्तर पर कराई जा रही सामान्य ज्ञान क्विज प्रतियोगिता को जीके ओलंपियाड नाम दिया गया है। स्कूली बच्चों को वर्ष में तीन जनरल नॉलेज की पुस्तकें उपलब्ध कराई जाएंगी। ये त्रैमासिक पत्रिकाएं होंगी। साथ ही बच्चों को स्पेशल मास्टर कार्ड उपलब्ध कराया जाएगा, जिसके माध्यम से बच्चे कॉम्पिटिशन में शामिल हो सकेंगे। इसमें शामिल होने वाले बच्चे पूरे भारत में अपनी रैंकिंग जान सकेंगे, इसके साथ ही इस स्पेशल कॉम्पिटिशन में टॉप करने वाले छात्र/छात्राएं कई आकर्षक पुरस्कार भी जीत सकेंगे। इसके अलावा उन्हें अमर उजाला के अखबार और ऑनलाइन एजुकेशन पोर्टल safalta.com में भी जगह दी जाएगी। प्रतियोगिता के लिए दी जाने वाली इन पत्रिकाओं को कुछ इस तरह से डिजाइन किया गया है, कि इन्हें पढ़ने के बाद छात्र/छात्राओं को जनरल नॉलेज के सभी कॉन्सेप्ट्स बिल्कुल स्पष्ट हो जाएंगे।

ओएमआर शीट की उपयोगिता

GK ओलंपियाड 2018 के स्पेशल कॉम्पिटिशन में शामिल होने वाले छात्र/छात्राओं को ऑप्टिकल मार्क रिकॉग्निशन (ओएमआर) शीट पर अपने जवाब देने होंगे। ओएमआर शीट परीक्षा में चिन्हित किए गए आंकड़ों को कैप्चर करने की प्रक्रिया है। इस शीट की जांच कंप्यूटरीकृत माध्यम से की जाएगी, ताकि छात्रों को परीक्षा में परेशानी का सामना न करना पड़े। हालांकि स्कूल की ज्यादातर परीक्षाओं मंट ओएमआर सीट का प्रयोग नहीं होता है, उन्हें लिखित परीक्षा देनी होती है। जबकि लगभग सभी प्रतियोगी परीक्षाएं ओएमआर शीट पर ही ली जाती हैं। इसलिए छात्र/छात्राओं को ओएमआर शीट पर परीक्षा देने का अनुभव भी प्राप्त होगा।

शानदार इनाम जीतने का मौका

स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए जनरल नॉलेज (जीके) ओलंपियाड  के माध्यम से एक ऐसा मंच प्रदान किया जा रहा है, जिसमें वे न केवल प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाने वाली जनरल नॉलेज से रू-ब-रू हो सकेंगे, बल्कि बेहतरीन प्रदर्शन करने पर उन्हें लैपटॉप, टैबलेट, मोबाइल इत्यादि शानदार इनाम जीतने का भी मौका मिलेगा।

सरकारी और प्राइवेट दोनों तरह के स्कूलों के छात्रों के लिए है मौका। शामिल होने के लिए स्कूल प्रबंधन से करना होगा संपर्क। हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं के लिए ओएमआर शीट का किया जाएगा उपयोग। जीके ओलंपियाड एग्जाम में शामिल होने से स्कूली छात्र-छात्राएं जान सकेंगे पूरे देश में अपनी रैंकिंग। इससे जुड़ी तमाम जानकारियों के लिए नीचे दिए टोल फ्री नंबर पर संपर्क किया जा सकता है।

संपर्क करें

अमर उजाला पब्लिकेशंस प्रां. लि.
C-21/22, सेक्टर 59, गौतम बुद्ध नगर
नोएडा, उत्तर प्रदेश
पिन कोड - 201301

टोल फ्री नंबर: 18001211166