IBPS RRB

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

  • कृषि, व्यापार, वाणिज्य तथा ग्रामीण क्षेत्रों में अन्य उत्पादक गतिविधियों के लिए, विशेष रूप से छोटे और सीमांत किसानों, खेतिहर मजदूरों, दस्तकारों और छोटे उद्यमियों के लिए और उनसे संबंधित मामलों के लिए ऋण और अन्य सुविधाओं के विकास के उद्देश्य से और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास की दृष्टि से26 सितम्बर 1975को प्रवर्तित अध्यादेश के प्रावधानों तथा क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक अधिनियम, 1976 के तहत 1975 में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबीज) की स्थापना की गई।
  • हाल ही में, भारत सरकार द्वारा भौगोलिक दृष्टि से आसपास स्थित क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के एकीकरण के माध्यम से क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के समेकन का प्रयास किया गया था।इस पहल के तहत, एसबीआई द्वारा प्रायोजित 14 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की संख्या घटकर 4 रह गई।इसी पहल के तहत, अन्य बैंकों द्वारा प्रायोजित 7 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों का विलय हमारे बैंक द्वारा प्रायोजित क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के साथ दिया गया। विलय के पश्चातशाखाओं की संख्या 3380 से बढ़कर 3607 के हो गई।
 

 

  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों की स्थापना का प्रमुख उद्देश्य दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रें में बैंकिंग सुविधा पहुंचाना, कमजोर वर्गों के लोगों के लिए रियायती दर पर ऋण उपलब्ध कराना है।
  • अधिकतम उम्र सीमा में आरक्षित वर्ग को नियमानुसार छूट प्रदान की जायेगी।
  • अधिकारी वर्ग को 2 साल तथा कार्यालय सहायक को 1 साल का परिवीक्षा (प्रोबेशन) समय निर्धारित किया गया है।
  • विज्ञापित पदों के लिए केवल ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। इन पदों पर उम्मीदवारों का चयन सितंबर-अक्तूबर 2014 में आईबीपीएस द्वारा आयोजित क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों-कॉमन लिखित परीक्षा-III में प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा।
  • आईबीपीएस की लिखित परीक्षा में निर्धारित मानक अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलाया जायेगा।

     

 

  • अधिकारी वर्ग-I के लिए 14,500 से 25,700 रुपये व कार्यालय सहायक के लिए 7200 से 19,300 रुपये प्रतिमाह वेतनमान निर्धारित किए गए हैं।

     

 

 

  • इस रोजगार पद आवेदन करने के लिए शैक्षणिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्था से किसी भी विषय में स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण होने के साथ कम्प्यूटर में डिग्री या डिप्लोमा परीक्षा उत्तीर्ण निर्धारित किया गया है।

     

 

 

 

एग्जाम पैटर्न

 


 

प्रारंभिक परीक्षा 80 अंकों की आयोजित की जाएगी। जिसमें दो खंड  होंगे।

 

क्रं.स. विषय प्रश्नों की संख्या अंक समयावधि
1 रीजनिग 40 40          
2 परिमाणात्मक अभिरुचि 40 40  
                 कुल 80 80 45  मिनट

 

 

मुख्य परीक्षा 200 अंकों की आयोजित की जाएगी। जिसके निम्न खंड होगा।

क्रं.स. विषय प्रश्नों की संख्या अंक समयावधि
1. तार्किक अभियोग्यता 40 50    2 घंटे
2. परिमाणात्मक अभिरुचि 40 40
3. सामान्य/वित्तीय जागरूकता 40 20
4.(A) सामान्य अंग्रेजी 40 50
4.(B) सामान्य हिंदी 40 40
     5.  कंप्यूटर अभिरुचि 40 40
  कुल 200 200

नेगेटिव मार्किंग: प्रत्येक उम्मीदवार की वस्तुनिष्ठ परीक्षा होगी, इसमें गलत जवाब पर 0.25 अंक नेगेटिव मार्किंग की जाएगी।  

 

एग्जाम में सफल होने के लिए रणनीति, सुझाव और तरकीब

 

पाठ्यक्रम

 


 

नीचे दिए गए टॉपिक सभी महत्वपूर्ण बैंकिंग परीक्षाओं में हिंदी खंड के तहत समान रूप से पूछे जाते हैं। इन सभी टॉपिकों के नियमित अभ्यास से परीक्षा में अधिक से अधिक अंक हासिल किए सकते हैं।

1. `	व्याकरण  
2.	भूल
3.	समानार्थक शब्द 
4.	विपीतार्थक  शब्द 
5.	गद्यांश 
6.	उपयुक्त शब्दों के साथ रिक्त स्थान को भरने

 

 

गणित एक ऐसा विषय है जिसमें जितना अधिक अभ्यास किया जाए, उसमें उतना ही अधिक प्रवीणता पाई जा सकती है। ट्रिकी सूत्रों के ज‌रिये इसे कम से कम समय में हल करने का कौशल विकसित किया जा सकता है। गणित के निम्न टॉपिकों पर उसके सूत्रों (Formulae) और हल करने की विधि को जानकर सफलता सुनिश्चित की जा सकती है।

S.No. Topics S.No. Topics
1. संख्या शृंखला 15. समय तथा कार्य
2. संख्याएं 16. समय, दूरी एवं चाल
3. दशमलव भिन्‍नें 17. रेलगाड़ियां
4. लघुत्तम समापवर्त्य तथा महत्तम समापवर्तक 18. साधारण ब्याज
5. वर्गमूल तथा घनमूल 19. चक्रवृद्धि ब्याज
6. घातांक तथ करणी 20. साझा
7. सरलीकरण 21. पाइप तथा टंकी
8. आसन्नतः मान 22. धारा तथा नाव से संबंधित प्रश्न
9. औसत 23. समतल आकृतियों के क्षेत्रफल
10. प्रतिशतता 24. ठोसों के आयतन
11. लाभ, हानि एवं बट्टा 25. क्रमचय तथा संचय
12. संख्याओं पर आधारित प्रश्न 26. प्रायिकता
13. उम्र पर आधारित प्रश्न 27. समंकों की पर्याप्तता
14. अनुपात तथा समानुपात 28. पैराग्राफ पर आधारित प्रश्न

 

 

प्रतियोगी परीक्षाओं में तर्क ज्ञान से जुड़े प्रश्न तर्कशक्ति या तार्किक क्षमता खंड के तहत पूछे जाते हैं। प्रश्नों की मौलिक प्रकृ‌ति को समझकर और टॉपिक के मुताबिक अभ्यास कर इसे समझना आसान हो जाता है।

S.No. Topics S.No. Topics
1. गणितीय संक्रियाएं 12 संख्या अ‌क्षर एवं प्रतीक की शृंखला पर आधारित प्रश्न
2. शब्दों का तार्किक क्रम 13 शृंखल
3. सादृश्यता परीक्षण 14 तार्किक वेन आरेख
4. कैलेंडर 15 असमता का परीक्षण
5 वर्गीकरण 16 कथन एवं‌ निष्कर्ष
6 कूटलेखन एवं कूटवाचन 17 न्याय निगमन
7 क्रम व्यवस्थिकरण 18 कथन एवं कार्यवाहियां
8 बैठक व्यवस्थिकरण 19 कथन एवं पूर्वधारणाएं
9 दिशा ज्ञान परीक्षण 20 निवेश एवं निर्गम
10 रक्त संबंध    
11 पहेली परीक्षण    

 

कंप्यूटर-ज्ञान खंड में आप ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए कंप्यूटर का आधारभूत ज्ञान, नेटवर्किंग, इंटरनेट और कम्यूनिकेशन के साथ इस क्षेत्र में होने वाले नए अनुसंधानों की जानकारी भी आपको होनी चाहिए। इस खंड के अंतर्गत कंप्यूटर-कंपोनेंट्स, लैंग्वेजेज, ऑपरेशंस, नेटवर्किंग आदि विषय आते हैं।