भारतीय नौसेना का जहाज आईएनएसवी महादेई पहली सभी महिला चालक दलों को लेकर 14 जून, 2016 को 1 बजे दिन में पोर्ट लुई, मॉरीशस पहुंचा। नौसेना के प्रसिद्ध नौकायन पोत महादेई अपने घरेलू बंदरगाह गोवा से 24 मई, 2016 को महिला चालक दलों के साथ पहली ऐतिहासिक खुले सागर की यात्रा पर रवाना हुआ था। लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी, जो एक नेवल आर्किटेक हैं, महादेई की पहली महिला कप्तान हैं। इस पोत के चालक दल में लेफ्टिनेंट पी स्वाति, लेफ्टिनेंट प्रतिभा जामवाल (एयर ट्रैफिक कंट्रोल विशेषज्ञ), लेफ्टिनेंट विजया देवी, सब- लेफ्टिनेंट पायल गुप्ता (दोनों शिक्षा अधिकारी) और लेफ्टिनेंट ऐश्वर्या (नेवल आर्किटेक) हैं। इस जहाज ने 2,100 नौटिकल माइल की समुद्री यात्रा दक्षिण-पश्चिम मानसून की मार झेलते 20 दिनों में पूरा किया गया था। इस समुद्री यात्रा का समय इस तरह तय किया गया था कि उन्हें 2017 में जो विश्व भ्रमण करना है उसके बारे में अच्छे ढंग से परिचित हो जायें। गोवा से मॉरीशस तक महादेई 35 केटीएस की रफ्तार से आती हवाओं का, 5 तक समुद्री राज्यों और 5 मीटर तक लहरों का उभार सहते हुए गोवा से मॉरीशस पहुंचा। इस यात्रा से प्रशिक्षण के उद्देश्यों को पूरा किया गया। इस कठोर यात्रा के माध्यम से इन नौसैनिकों को उनके सैद्धांतिक और व्यावहारिक प्रशिक्षण के धरातल पर खरा उतरने का एक अवसर भी मिला। महादेई का स्वागत मॉरीशस के तट रक्षक पोत रिट्र्इवर द्वारा पोर्ट लुईस बंदरगाह पर किया गया और उसे फिर सही जगह पर ले जाया गया। इसके साथ ही, महादेई की आगवानी वहां भारत के कार्यवाहक उच्चायुक्त, राष्ट्रीय तटरक्षक बल के कमांडेंट सहित भारतीय उच्चायोग के अन्य अधिकारियों और उनके परिजनों ने किया। मॉरीशस के दस महिला पुलिस अधिकारियों ने बंदरगाह से 10 मील की दूरी पर आगवानी की और उस फिर अपने दल द्वारा ही पोर्ट के लिए रवाना हुए। अपने प्रवास के दौरान चालक दल मॉरीशस के राष्ट्रपति, लैंगिक समानता एवं बाल विकास मंत्री, मॉरीशस सरकार के अन्य गणमान्य लोगों से मुलाकात करेंगे। यह पोत दर्शकों और स्कूली बच्चों के लिए भी उपलब्ध रहेगा। महादेई पर कुछ चयनित समूहों के लिए पोर्ट लुई में छुट्टी बिताने के लिए रहेगा।
capsul samaiki logo
 करेंट अफेयर्स पर आधारित डेली कैप्सूल पर जाने के लिए क्लिक करें   करेंट अफेयर्स पर आधारित मासिक पत्रिकाओं पर जाने के लिए क्लिक करें
 

Other details:

Related Articles:

  • Share: