गूगल ने सोवियत रूस के फिल्ममेकर सेर्गे आइसेन्स्टाइन की 120वीं जयंती पर 22 जनवरी, 2018 को डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। सेर्गे को फिल्मों की दुनिया में ‘फादर ऑफ मोंटाज’ भी कहा जाता है। सोवियत रूस के इस डायरेक्टर का जन्म लातविया में 22 जनवरी 1898 के दिन हुआ था। सेर्गे ने आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। उसके बाद बोल्शेविक क्रांति में अपना योगदान देने के उद्देश्य से सेर्गे रेड आर्मी में शामिल हो गए। 1923 में आइसेन्स्टाइन ने फिल्म थ्योरिस्ट (विचारक) के रूप में काम करना शुरू कर दिया। साल 1925 में उनकी पहली साइलेंट फिल्म ‘स्ट्राइक’ रिलीज हुई। उसके बाद सेर्गे की ‘बैटलशिप पोटेमकिन’ (1925) और ओक्टोबर (1928) सिनेमाघरों में आई। फिल्म अलेक्जेंडर नेव्सकी (1938) और इवान द टॅरीबल (1944, 1958) ने भी उन्हें काफी प्रसिद्ध किया।

Google Doodle 22 Jan

सेर्गे ने ‘बैटलशिप पोटेमकिन’ के जरिए लोगों के सामने मोंटाज को पेश किया। कई सारे शॉट्स को एक क्रम में लगाकर इस फिल्म में मोंटाज की मदद से लोगों के सामने पेश किया गया, इन सभी शॉट्स ने लोगों को काफी प्रभावित किया। सेर्गे ने इसे ‘इंटेलेक्चुअल मोंटाज’ कहा। आइसेन्स्टाइन की मौत सन् 1948 में 50 साल की उम्र में हार्ट अटैक के कारण हुई।

  • Share: