SIDBI (Small Industries Development Bank Of India)

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक

  • भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक या सिडबी (Small Industries Development Bank of India) भारत की स्वतंत्र वित्तीय संस्था है जो सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की वृद्धि एवं विकास के लक्ष्य से स्थापित किया गया है। यह संस्था उद्योग क्षेत्र के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास तथा इसी तरह की गतिविधियों में लगी अन्य संस्थाओं के कार्यां में समन्वयन के लिए प्रमुख विकास वित्तीय संस्था है।
  • सिडबी की स्थापना 2 अप्रैल 1990 को हुई थी। इसकी स्थापना संबंधी अधिकार-पत्र भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक अधिनियम, 1989 में सिडबी की परिकल्पना लघु उद्योग क्षेत्र के उद्योगों के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास और लघु उद्योग क्षेत्र के उद्योगों को संवर्द्धन व वित्तपोषण अथवा विकास में लगी संस्थाओं के कार्यों में समन्वय करने और इसके लिए प्रासंगिक मामलों के लिए प्रमुख वित्तीय संस्था के रूप में की गई है।
 

 

 

  • सिडबी बैंक में विभिन्न पदों  जैसे- सहायक मैनेजर, निजी सचिव, मैनेजर, सलाहकार, प्रबंध निदेशक, वरिष्ठ तकनीकी विशेषज्ञ, खरीद और व्यवस्थापक विशेषज्ञ, तकनीकी कार्यकारी आदि की जिम्मेदारियां भी भिन्न-भिन्न होती है 

आयु सीमा(साल में): सिडबी बैंक से उम्मीदवार की आयु सीमा की गणना नियमों के अनुसार की जाएगी।

 

 

  • सिडबी के विभिन्न पदों के लिये तय वेतनमान भी भिन्न होता है जिसका विवरण निम्न प्रकार है -
पदों के नाम  वेतनमान
लीड तकनीकी विशेषज्ञ 110,000 – 150,000 /-
वरिष्ठ तकनीकी विशेषज्ञ 80,000 – 110,000 / –
खरीद और व्यवस्थापक विशेषज्ञ 75,000 – 110,000 / –
विशेषज्ञ 70,000 – 110,000 / –
तकनीकी विशेषज्ञ 60,000 – 80,000 / –
तकनीकी कार्यकारी 55,000 – 75,000 / –

 

 

 

  • उम्मीदवारों को एक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय से : तकनीकी विशेषज्ञ लीड: स्नातक / मास्टर डिग्री प्रौद्योगिकी या इंजीनियरिंग में वरिष्ठ तकनीकी विशेषज्ञ: प्रौद्योगिकी या इंजीनियरिंग में स्नातक / मास्टर डिग्री खरीद और व्यवस्थापक विशेषज्ञ: स्नातक / मास्टर डिग्री विशेषज्ञ – संचालन: स्नातक / ऊर्जा पर्यावरण या इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री तकनीकी विशेषज्ञ: काम करने का अनुभव के तीन साल के साथ प्रौद्योगिकी या इंजीनियरिंग में स्नातक / मास्टर डिग्री तकनीकी कार्यकारी: पाँच वर्षों के साथ प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।

 

 

 

 

एग्जाम पैटर्न

 


 

 

  • उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा तथा व्यक्तिगत साक्षात्कार के आधार पर किया जाएगा।
क्र. सं. विषय प्रश्नों की संख्या अंक समयावधि
1. तार्किक अभियोग्यता 40 50  
2. सामान्य/वित्तीय जागरूकता 40 40  
3. परिमाणात्मक अभिरुचि 40 50  
4. सामान्य अंग्रेजी 40 40  
5. कंप्यूटर अभिरुचि 40 20  
  कुल 200 200  2 घंटा

नेगेटिव मार्किंग: प्रत्‍येक उम्मीदवार की वस्तुनिष्ठ परीक्षा होगी, इसमें गलत जवाब पर 0.25 अंक नेगेटिव मार्किंग की जाएगी।  

 

एग्जाम में सफल होने के लिए रणनीति, सुझाव और तरकीब

 

पाठ्यक्रम

  • नीचे दिए गए टॉपिक सभी महत्वपूर्ण बैंकिंग परीक्षाओं में अग्रेजी खंड के तहत समान रूप से पूछे जाते हैं। इन सभी टॉपिकों के नियमित अभ्यास से परीक्षा में अधिक से अधिक अंक हासिल किए जा सकते हैं।
S.No.Topics
1Spotting the errors
2Close test
3Idioms and phrases
4Sentence completion test
5Sentence rearrangement
6Comprehension
7Active and passive voice
8Direct and indirect speech

  • गणित एक ऐसा विषय है जिसमें जितना अधिक अभ्यास किया जाए, उसमें उतनी ही अधिक प्रवीणता पाई जा सकती है। ट्रिकी सूत्रों के ज‌रिये इसे कम से कम समय में हल करने का कौशल विकसित किया जा सकता है। गणित के निम्न टॉपिकों पर उसके सूत्रों (Formulae) और हल करने की विधि को जानकर सफलता सुनिश्चित की जा सकती है।
S.No.TopicsS.No.Topics
1.संख्या शृंखला15.समय तथा कार्य
2.संख्याएं16.समय, दूरी एवं चाल
3.दशमलव भिन्‍नें17.रेलगाड़ियां
4.लघुत्तम समापवर्त्य तथा महत्तम समापवर्तक18.साधारण ब्याज
5.वर्गमूल तथा घनमूल19.चक्रवृद्धि ब्याज
6.घातांक तथ करणी20.साझा
7.सरलीकरण21.पाइप तथा टंकी
8.आसन्नतः मान22.धारा तथा नाव से संबंधित प्रश्न
9.औसत23.समतल आकृतियों के क्षेत्रफल
10.प्रतिशतता24.ठोसों के आयतन
11.लाभ, हानि एवं बट्टा25.क्रमचय तथा संचय
12.संख्याओं पर आधारित प्रश्न26.प्रायिकता
13.उम्र पर आधारित प्रश्न27.समंकों की पर्याप्तता
14.अनुपात तथा समानुपात28.पैराग्राफ पर आधारित प्रश्न

  • प्रतियोगी परीक्षाओं में तर्क ज्ञान से जुड़े प्रश्न तर्कशक्ति या तार्किक क्षमता खंड के तहत पूछे जाते हैं। प्रश्नों की मौलिक प्रकृ‌ति को समझकर और टॉपिक के मुताबिक अभ्यास कर इसे समझना आसान हो जाता है।
S.No.TopicsS.No.Topics
1.गणितीय संक्रियाएं12संख्या अ‌क्षर एवं प्रतीक की शृंखला पर आधारित प्रश्न
2.शब्दों का तार्किक क्रम13शृंखल
3.सादृश्यता परीक्षण14तार्किक वेन आरेख
4.कैलेंडर15असमता का परीक्षण
5वर्गीकरण16कथन एवं‌ निष्कर्ष
6कूट लेखन एवं कूट वाचन17न्याय निगमन
7क्रम व्यवस्थिकरण18कथन एवं कार्यवाहियां
8बैठक व्यवस्थिकरण19कथन एवं पूर्वधारणाएं
9दिशा ज्ञान परीक्षण20निवेश एवं निर्गम
10रक्त संबंध  
11पहेली परीक्षण  

कंप्यूटर ज्ञान खंड - कंप्यूटर-ज्ञान खंड में आप ज्यादा से ज्यादा अंक प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए कंप्यूटर का आधारभूत ज्ञान, नेटवर्किंग, इंटरनेट और कम्यूनिकेशन के साथ इस क्षेत्र में होने वाले नए अनुसंधानों की जानकारी भी आपको होनी चाहिए। इस खंड के अंतर्गत कंप्यूटर-कंपोनेंट्स, लैंग्वेजेज, ऑपरेशंस, नेटवर्किंग आदि विषय आते हैं।