UPPSC ( Uttar Pradesh Public Service Commission )


उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग, इलाहाबाद

  • उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) हर साल विभिन्न राजपत्रित एवं अराजपत्रित पदों की भर्ती के लिए भारतीय नागरिकों से आवेदन आमंत्रित करता है।
  • आयोग उपजिलाधिकरी (एसडीएम), पुलिस उपाधिक्षक (डीएसपी), खण्ड विकास अधिकारी (बीडीओ), असिस्टेंट कमिश्नर (वाणिज्य कर), बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला पंचायत अधिकारी, जिला बाल विकास अधिकारी, आदि पदों के लिए सम्मिलित प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा का आयोजन करता है।
  • सिविल जज आदि के लिए आयोग न्यायिक सेवा परीक्षा का समय-समय पर आयोजन करता है।
  • इसके अलावा राज्य सरकार में उच्च स्तर पर जिन पदों की भर्ती की आवश्यकता पड़ती है, आयोग उनके लिए भर्ती प्रक्रिया संपन्न करता है।

UPPSC-Logo

 

  • उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की प्राथमिक जिम्मेदारी राज्य में उच्च स्तरीय पदों की भर्ती करना है, जो कि समय-समय पर राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में रिक्त होती रहती हैं।
  • आयोग के द्वारा भर्ती केवल साक्षात्कार अथवा वस्तुनिष्ठ परीक्षा एवं साक्षात्कार या फिर केवल परीक्षा के आधार पर कर सकता है।
  • सर्विस के नियमों के आधार पर प्रोन्नति (प्रोमोशन) के लिए परीक्षा।
  • भर्ती एवं सेवा से जुड़े मुद्दों पर राज्य सरकार को अपनी सलाह देना।                                      
  • उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग निम्नलिखित सेवाओं के लिए परीक्षाओं का आयोजन करता हैः

    • उत्तर प्रदेश प्रशासनिक सेवा
    • उत्तर प्रदेश पुलिस सेवा
    • उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा
    • राज्य वित्त सेवा
    • इंजीनियरिंग,
    • मेडिकल
    • शिक्षा
    • ये पद बिजली, सड़क, लोक व्यवस्था, न्याय व्यवस्था, आपूर्ति व्यवस्था, शिक्षा, कर, मेडिकल, इंजीनियरिंग, बाल और महिला कल्याण एवं एस.सी/ए.टी और पिछड़ा वर्ग कल्याण से सम्बन्धित कल्याणकारी कार्य से जुड़े होते हैं।
    • ये ऐसे पद हैं जिनमें राज्य के अंतर्गत जिलों, ब्लाकों एवं तहसीलों इत्यादि क्षेत्रों में इन्फ्रास्ट्रक्चर, कानून व्यवस्था, शिक्षा आदि क्षेत्रों के सुचरू रूप से संचालन की निगरानी करनी होती है।

 

  • यूपीपीसीएस के द्वारा आयोजित "संयुक्त राज्य प्रवर एवं अवर अधीनस्थ सेवा परीक्षाओं" के अंतर्गत सफल हुए उम्मीदवारों के लिए नियुक्ति के समय अलग-अलग वेतनमान होता है।
  • प्रवर (अपर) सेवाओं के लिए यह वेतनमान 15,600 रुपये - 34,800 रुपये तथा 5,400 रुपये के ग्रेड पे है।
  • अवर (लोअर) सेवाओं के लिए यह वेतनमान 5,500 रुपये - 20,200 रुपये और ग्रेड पे 4200/4600/4800 रुपये निर्धारित है। 

                                               

 

सिविल सेवा में शामिल होने वाले छात्रों के लिए द्वारा निम्नलिखित अर्हता निर्धारित की गयी हैं-

1. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (U.G.C) की धारा 1956, द्वारा मान्यता प्राप्त, किसी राज्य अथवा केंद्रीय विश्वविद्यालय, या डीम्ड विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक अथवा समकक्ष की डिग्री।

2.ऐसे छात्र जो स्नातक अथवा समकक्ष परीक्षा के परिणाम का इंतजार कर रहे हैं या अंतिम वर्ष में हैं, वो प्रारंभिक परीक्षा में बैठ सकते है । लेकिन मुख्य परीक्षा में शामिल होने के पूर्व उन्हें आवेदन पत्र के साथ न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की डिग्री संलग्न करना आवश्यक है।

3. विशेष परिस्थिति में आयोग एेसे छात्रों को भी परीक्षा में बैठने की अनुमति दे सकता है जो निर्धारित योग्यता धारण नहीं करते हैं लेकिन आयोग की नजर में उनकी डिग्री न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के समकक्ष है।

4. पेशेवर और तकनीकी योग्यता वाले छात्र भी इस परीक्षा में शामिल हो सकते हैं ।

5.एेसे अभ्यर्थी जो M.B.B.S के Final में हैं या जिनकी इंटर्नशिप अभी पूरी नहीं हुई है वो भी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में शामिल हो सकते हैं । लेकिन साक्षात्कार के दौरान उन्हें पूरी डिग्री साक्षात्कार बोर्ड के समक्ष रखनी पड़ती है ।

 

 

एग्जाम पैटर्न


अपर पी.सी.एस मे चयन प्रक्रिया तीन चरणों में संपन्न होती है-
(1) प्रारंभिक परीक्षा (वस्तुनिष्ठ व बहुविकल्पीय प्रकृति)
(2) मुख्य परीक्षा (लिखित परीक्षा)
(3) साक्षात्कार

प्रारंभिक परीक्षा वस्तुनिष्ठ व बहुविकल्पीय प्रकार की होती है।

  • प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्न पत्र होते हैं, जिसमें पहला प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन (प्रथम) और दूसरा सामान्य अध्ययन (द्वितीय) नाम से होता है।
  • पहले पेपर में 150 और दूसरे में 100 प्रश्न होते हैं। दोनों ही प्रश्न पत्र 200-200 अंकों के हैं एवं प्रत्येक प्रश्न पत्र के लिए दो घंटे का समय निर्धारित होता है।
  • द्वितीय प्रश्न पत्र को सामान्य अध्ययन द्वितीय या सिविल सेवा एप्टीट्यूट टेस्ट (सीसैट) भी कहते हैं।
  • दूसरा प्रश्नपत्र सिविल सेवा एप्टीट्यूट टेस्ट (सीसैट) का होता है जो कि क्वालीफाइंग प्रकृति का है अर्थात इस प्रश्न पत्र में अभ्यर्थियों को न्यूनतम 33% अंक प्राप्त करना अनिवार्य होता है।
  • इस प्रकार मुख्य परीक्षा तक पहुंचाने में प्रारंभिक परीक्षा के पहले प्रश्नपत्र की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।
क्र. सं.विषयकुल प्रश्नअंकसमयावधि
1.सामान्य अध्ययन (प्रथम प्रश्न पत्र) 150200 2 घंटे 
2.सामान्य अध्ययन (द्वितीय प्रश्न पत्र सीसैट) 100200 2 घंटे 

 

  • इस परीक्षा में चार अनिवार्य प्रश्न पत्र और उम्मीदवार द्वारा चुने गये दो वैकल्पिक विषयों के चार प्रश्न पत्र होंगे।
  • अनिवार्य प्रश्न पत्रों में सामान्य हिंदी और निबंध के लिए 150-150 अंकों में दो प्रश्न पत्र तथा सामान्य अध्ययन के दो प्रश्न पत्र 200-200 अंकों में होंगे।
  • दोनों ही प्रश्न पत्र वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे।
क्र. सं.विषय अंकसमयावधि
1.सामान्य अध्ययन प्रथम प्रश्न पत्र2003 घंटे
2.सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न पत्र 2003 घंटे
3.सामान्य हिन्दी 1503 घंटे
4.निबंध 1503 घंटे
5.वैकल्पिक विषय 1 (दो प्रश्नपत्र) 400 अंक 3 घंटे (प्रत्येक प्रश्नपत्र में)4003 घंटे (प्रत्येक प्रश्नपत्र में)
6.वैकल्पिक विषय 2 (दो प्रश्नपत्र) 400 अंक 3 घंटे (प्रत्येक प्रश्नपत्र में)4003 घंटे (प्रत्येक प्रश्नपत्र में)

साक्षात्कार- 

  • यूपीपीसीएस के द्वारा आयोजित "संयुक्त राज्य प्रवर परीक्षा के तीसरे एवं अंतिम चरण में साक्षात्कार के लिए उन उम्मीदवारों को आमंत्रित किया जाता है, जिन्होंने मुख्य परीक्षा की लिखित परीक्षा उत्तीर्ण की हो।
  • यह साक्षात्कार कुल 200 अंकों का होता है।
  • इसका मुख्य उद्देश्य उम्मीदवार का व्यक्तित्व परीक्षण प्रशासनिक दृष्टिकोण के आधार पर करना होता है।

3

जॉब अलर्ट और समाचार

+

एग्जाम में सफल होने के लिए रणनीति, सुझाव और तरकीब

{"first_class":"1","title":"\u090f\u0917\u094d\u091c\u093e\u092e \u092e\u0947\u0902 \u0938\u092b\u0932 \u0939\u094b\u0928\u0947 \u0915\u0947 \u0932\u093f\u090f \u0930\u0923\u0928\u0940\u0924\u093f, \u0938\u0941\u091d\u093e\u0935 \u0914\u0930 \u0924\u0930\u0915\u0940\u092c","show_title":"1","post_type":"post","taxonomy":"","term":"","post_ids":"16834,","course_style":"recent","featured_style":"side","masonry":"0","grid_columns":"clear1 col-md-12","column_width":"200","gutter":"30","grid_number":"1","infinite":"0","pagination":"1","grid_excerpt_length":"100","grid_link":"1","css_class":"","container_css":"","custom_css":""}

पाठ्यक्रम


  • प्रारम्भिक परीक्षा के प्रथम प्रश्नपत्र में राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाओं, भारत के इतिहास एवं राष्ट्रीय आंदोलन, भारत एवं विश्व का भूगोल, भारतीय राजनीति एवं शासन-संविधान, आर्थिक एवं सामाजिक विकास-सतत विकास, पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी संबंधी और सामान्य विज्ञान से प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • सामान्य अध्ययन के द्वितीय प्रश्न पत्र में कांप्रिहेंसन, इंटरपर्सनल स्किल्स, लॉजिकल रीजनिंग एंड एनालिटिकल एबिलिटी, जनरल मेंटल एबिलिटी, जनरल मैथ्स, जनरल इंगलिश एवं सामान्य हिंदी से प्रश्न पूछे जायेंगे।
  • गणित, इंगलिश और हिंदी के प्रश्न सामान्यत: 10वीं के स्तर के होते हैं। इस प्रश्न पत्र में पहला कंप्रिहेन्शन हिन्दी और दूसरा अंग्रेजी में होगा।
  • दोनों प्रश्न पत्रों में पूछे जाने वाले प्रश्न उत्तर प्रदेश आयोग के विज्ञापन में जारी पाठ्यक्रम के मुताबिक ही पूछे जाएंगे।
  • इसमें किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है। दूसरे प्रश्नपत्र में अंग्रेजी, हिन्दी और प्रारंभिक गणित के सवाल हाईस्कूल स्तर के होंगे।
  • गणित, तार्किक योग्यता के सवाल होने के कारण अभ्यर्थियों की सहूलियत के लिए दूसरे प्रश्नपत्र में प्रश्नों की संख्या कम रखी गई है।

  • यूपीपीएससी पीसीएस मुख्य परीक्षा में सामान्य अध्ययन के दो प्रश्नपत्रों का पाठयक्रम 

1. भारत का इतिहास -प्राचीन, मध्यकालीन, आधुनिक भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और भारतीय संस्कृति।
2. जनसंख्या, पर्यावरण और शहरीकरण भारतीय संदर्भ में, विश्व भूगोल, भारत और प्राकृतिक संसाधनों का भूगोल।
3. राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के वर्तमान घटनाक्रम।
4. भारतीय कृषि, व्यापार और वाणिज्य।
5. उत्तर प्रदेश की शिक्षा, संस्कृति कृषि, व्यापार वाणिज्य, रहने और सामाजिक रीति-रिवाजों के तरीके। 



1. भारतीय राजव्यवस्था
2. भारतीय अर्थव्यवस्था
3. सामान्य विज्ञान
4. सामान्य मानसिक योग्यता
5. सांख्यिकीय विश्लेषण, रेखांकन और चित्र  

आगामी परीक्षा के लिए खुद को परखें 

हल पेपर ( Previous years solved papers )

स्टडी किट

Copyright 2017 © AMARUJALA.COM. All rights reserved.