भारत ने जमीन से हवा में लक्ष्य भेदने वाली स्वदेशी मिसाइल आकाश का सफल परीक्षण किया गया। यह परीक्षण 05 दिसंबर 2017 को उड़ीसा के आईटीआर रेंज चांदीपुर में किया गया। इस मिसाइल का परीक्षण टेलीमेट्री, रडार और इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल प्रणाली के जरिए सभी स्‍तरों पर परीक्षण हुआ। जमीन से हवा में मार करने वली मिसाइल में आकाश पहली मिसाइल है जिसमें स्वदेशी तकनीक युक्त प्रणाली का प्रयोग किया गया है। इस प्रणाली के माध्यम से मिसाइल रेडियो तरंगों के आधार पर अपने लक्ष्य को भेदने में सक्षम होगी। इस परीक्षण के बाद भारत ने किसी भी तरह की जमीन से हवा में मार करने में सक्षम मिसाइल बनाने की क्षमता हासिल कर ली है।

Akash missile  

आकाश को भारतीय सेना में कम दूरी की जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल के तौर पर शामिल किया गया है। परीक्षण के दौरान महानिदेशक (मिसाइल), डीआरडीओ और रक्षा मंत्री (एसए से आरएम) के वैज्ञानिक सलाहकार डॉ जी सतीश रेड्डी, डीआरडीएल के निदेशक एमएसआर प्रसाद, कार्यक्रम निदेशक जी चंद्र मौली, आईटीआर के निदेशक डॉ. बी. के. दास सहित डीआरडीओ के शीर्ष वैज्ञानिक भी उपस्थित थे।

More Current Affairs

Related Articles:

  • Share: